भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

184 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लगे नुगदियां तलन ते सकरपारे ढेर लांवदे ने वड़ घेरवां दे
तले खूब जलेब गुलभिशत बूंदी लडू टिकियां भिनड़े मेवरां दे
मैदा खंड ते घिउ पा रहे जफी भाबी लाडली नाल जिउं देवरां दे
कलाकंद मखानयां सुआद मिठे पकवान गन्ने नाल तेवरां दे
होर जहान दी रसद आई, बाजूबद बंने सभा जमाह हाई नाल तेवरा दे

शब्दार्थ