भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

195 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आतशबाजियां छुटियां फुल झड़ियां नाले छुटियां वांग हवा मियां
हाथी मोर ते चकिया झाड़ छुटे ताड़ो ताड़ पटाखया पा मियां
सावन भादरों कुजियां खडियां ने टिंड चूहयां दी करे ता मियां
महिताबियां दे टोटके चादरां सन देन चकियां वडे रसा मियां

शब्दार्थ