भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

202 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रले दिलां नूं पकड़ विछोड़ देंदे बुरी बान है तिनांह हतिआरयां नूं
नित शहर दे फिकर गलतान[1] रहिंदे एहो शामत है रब्ब दयां मारयां नूं
खावन वढियां नित ईमान वेचन एह मार है काज़ियां सारयां नूं
रब्ब दोजखां नूं भरे पा बालन केहा दोश है असां विचारयां नूं
वारस शाह मियां बनी बहुत औखी नाहीं जानदे सां इनहां कारयां नूं

शब्दार्थ
  1. डूबे हुए