भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

214 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लै वे रांझया वाह मैं ला थकी मेरे वस थीं गल बे वस होई
काज़ी मापयां भाइयां बनन तोरी मैंडी तैंडड़ी दोसती बस होई
घरी खेड़यां दे नहीं वसना में साडी उन्हां दे नाल खरखस होई
जां जीवांगी मिलांगी रब्ब मेले हाल साल तां दोसती वस होई
वारस शाह तों पुछ लै लेख मेरे होनी हीर निमाणी दी सस होई

शब्दार्थ