भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

217 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रांझे आखया सियाल रत्न गए सारे अते हीर भी छड ईमान चली
सिर हेठां नूं कर लया फेर चूचक जदों सथ विच आनके गल हली
धीयां वेंचदे कौल जबान हारन महराब मथे उते पौन ढिली
यारो सयालां दियां दाढ़ियां वेखदे हो जेही मूंग मंगवाड़ दी मसर फली
वारस शाह मियां धी साहनी नूं गल विच चा पांवदे हैन टली

शब्दार्थ