भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

229 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुड़ियां जा वलाया रांझने नूं फिरे दुख ते दरद दा लदया ई
आय घिंन सुनेहड़ा सजनां दा तैनूं हीर प्यारी ने सदया ई
तेरे वासते मापयां घरों कढी असां सैहरा पेईड़ा रदया ई
झब होए फकीर ते पहुंच मैंथे, उथे झंडड़ा कास नूं गड़िया ई

शब्दार्थ