भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

240 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होका फिरे देंदा पिंड विच सारे आयो किसे फकीर जे होवना जे
मंग खावना कम्मना काज करना ना कुझ चारना ते ना कुझ चोवना जे
जरा कन्न पड़वा सवाह मलनी गुरु सारे जगत दा होवना जे
नही देनी वधाई फिर जमने दी किसे मोए नूं मूल ना रोवना जे
मंगना खावना ते नाले घूरना जे देनदार न किसे दे होवना जे
खुखी आपनी उठना मियां वारस अते अपनी नींद ही सोवना जे

शब्दार्थ