भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

246 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोग भोगना दुध ते दहीं पीवन पिंडा पालके रात दिन धोवना एं
खरा कठन है फकर दी वाट झागन[1] मुंहों आखके काहे वगोवना एं
वाहें वंझली त्रीमतां नित घूरे गाईं महीं वलायके चोवना एं
वारस आख जटा केही बनी तैनूं सुआद छडके खेह[2] क्यों होवना एं

शब्दार्थ
  1. फकीरी
  2. मिट्टी