भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

251 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुसी बखशना तां जोग किरपा दान करदयां ढिल ना लोड़ीए जी
जेहड़ा आस करके डिगे आन दुआरे जी ओसदा चा ना तोड़ीए जी
सिदक बनके जेहड़ा आ चर्ण लगे पार लाईए विच ना बोड़ीए जी
वारस शाह मियां जैंदा कोई नाहीं मेहर उसतों नांह विछोड़ीए जी

शब्दार्थ