भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

273 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जोगी नाथ तों खुशी लै विदा होया छुटा ब्राजज्यों तेज तरारयां नूं
इक पलक विच कम हो गया उसदा लगी अग फेर चेलयां सारयां नूं
मुड़के रांझणे इक जवाब दिता उन्हां चेलयां हैंस्यारयां[1] नूं
भले कर्म होवण ताहींए जोग पाईढ मिले जोग न करमां दयां मारयां नूं
असीं जट अनजान थीं फस गए करम कीतो सू असां नकारयां नूं
वारस शाह अल्ला जदों करम[2] करदा हुकम हुंदा ए नेक सतारयां नूं

शब्दार्थ
  1. लोग
  2. रहमत