भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"शो" / अमुल चैनलाल आहूजा 'रहिमी'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:16, 3 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अमुल चैनलाल आहूजा 'रहिमी' |अनुवाद...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छा चयुइ
मां सिन्धी ‘शो’ पेशु करियां
उन्हिन सिन्धियुनि अॻियां जिन
घरनि मां लोधे कढियो आहे सिन्धी ॿोलीअ खे
वॾे वज़न वारा लॻाया आहिन कुलफ दरन ते
सिन्धियत खे घर अंदर धिढ़ण खां रोकण वास्ते!

छां मां
उन्हिन आॾो ‘शो’ पेशु करियां
जेके ”आइ एम सिन्धी“ ”मैं सिन्धी हूँ“
या ”हूं सिन्धी छूं“ चई
मुंहिंजी अमड़ खे लॼाईनि था!
मां क़तह ‘शो’ पेशु न कंदुसि
उन्हिन बेपरवाह बादशाहनि अॻियां
जेके असां जहिड़नि नाटक कारनि खे-
इनाम, अकराम, ख़्वाह सन्मान जो लभु ॾेई
पाण मुख्य महिमान थी या
हालनि में अवल सिफ में वेही सिन्धियुनि खे ई
सिन्धीअ में कुझु चवण, ॿुधाइण बजाइ गै़र सिन्धीअ में
ख़ौफनाक कचियूं गारियूं ऐं बदशद ॻाल्हाऐ
सिन्धियुनि खे
गै़र सिन्धियुनि अॻियां

ॾिठो ई न बल्कि रोअणहारिको कंदा आहिन
बिल्कुल न
मां ‘शो’ पेशु कीन कंदुसि
उन्हिन अमीरनि अॻियां जेके
असांखे महिज़ मिठाईअ जी प्लेट समझनि था या
चंद सोननि सिकन जी आछ ॾेई
असांखे इन्हीअ माचीस जी तीली था भाईनि
जेका हू घणे चोॼ मां गोशतु खाई
डं/द खोटण जे कतब आणींदा आहिन
ऐं टिट सां ईअं चई
सोपारी, भञण जी नाकाम कोशिश कंदा आहिन
तहु सिन्धियत जा
सचा शेदाई आहिन!
असीं तीलीयूं आहियूं अवस
पर उहे जे आग ॾींदियूं
ऐं
उला निकरंदा त को भी विसाए कीन सघंदो
मां अहिड़ो ई ‘शो’ पेशु करण पसंद कंदुसि
छा तो में मादो आहे
इहो सभु तूं क़बूल कंदें?
सचु कंहिं खे वणियो आहे
जो तूं पसंद कंदें!?