भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'सती को लेने जब रथ आया / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
Vibhajhalani (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:45, 29 अगस्त 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गुलाब खंडेलवाल |संग्रह=सीता-वनवा...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सती को लेने जब रथ आया
सब रह गये ठगे से, कोई बढ़ कर रोक न पाया

आश्रम सारा धुआँ धुआँ था
सम्मुख पावक भरा कुआँ था
जिसमे तेज विलीन हुआ था
लिए सुकोमल काया

मलिन दिशायें काँप उठा नभ
सुमन जहाँ केवल था सौरभ
सर्व -समर्थ नाथ को हतप्रभ
देख विश्व अकुलाया

सिसक रहे थे लव कुश भू पर
सब परिजन, पुरजन थे कातर
बाल्मीकि मुनि ने तब उठ कर
मधुर सुरों में गाया

सती को लेने जब रथ आया
सब रह गये ठगे से, कोई बढ़ कर रोक न पाया