भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधियारे एकान्त में / अनुभूति गुप्ता

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:54, 2 मई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनुभूति गुप्ता |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँधियारे एकान्त में
सुनसान चैराहे के
बीचों-बीच
खड़ा आदमी
मद्धिम चाँदनी को
विलुब्ध नेत्रों से देखता है

घड़ी के काँटों की
टिक-टिक
रह-रहकर उसे सताती है,
डराती है, बरगलाती है, धमकाती है
और
एकाएक बोल पड़ती है

कि:
तुम्हें तो
वक्त ने भी
अपना मित्र बनाने से
निषिद्ध कर दिया है
तुम उसके हाथों की
महज कठपुतली हो
दुःख की आँधी में
तुम तो
एक बार में ही सहम जाओगे
थर-थर काँपोगे
आँखें मूंदकर
मन ही मन यह मनाओगे
कि-
काश
यह सिर्फ़
एक बुरा सपना ही हो।