भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधेरा यहाँ हर तरफ छा रहा है / रंजना वर्मा

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ४ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:42, 11 मार्च 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGeet}} <poem> अँधेर...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँधेरा यहाँ हर तरफ छा रहा।
है दिलों को मगर कोई भरमा रहा॥

समय इस तरह करवटें है बदलता
कि जैसे कोई जलजला आ रहा है॥

जरा अपना दामन उठा कर तो देखो
कहीं कोई दुश्मन छुपा जा रहा है॥

कभी चाँद पर तुम भरोसा न करना
वो अब चाँदनी पर सितम ढा रहा है॥

संभल कर चलो दौर है मुश्किलों का
कि खुदगर्जियों का चलन भा रहा है॥

जले जंगलों की न चिंता किसी को
पपीहा कहीं दूर पर गा रहा है॥

ना तरु डाल कोई न छाया कहीं पर
तपन आग बन देह झुलसा रहा है॥।