भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंधेरे में किरण / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:48, 20 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंधेरे में किरण बन
पथ दिखाने कौन आया है?
तिमिर को भेद कर अब
जगमगाने कौन आया है?
बहुत लम्बी निशा बीती
अंधेरी कालिमा वाली
बहुत ही दूर लगती थी
उषा वह लालिमा वाली
मगर अब प्राची को अरुणिम
बनाने कौन आया है?
गये मुर्झा पल्लव सब
तरू सूखे थे उपवन के
उड़ा सौरभ, उड़े सुन्दर
सभी शृंगार कानन के
मगर अब केसरी खुशबू
फैलाने कौन आया है
कभी गुम हो गई थी, जो
मधुर आवाज़ वेणु की
बहुत बीते दिवस घड़िया
मिली न राह सृजन क्षण की
अधर पर गीत बन अब
मुस्कुराने कौन आया है?