भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अकाल / सुषमा गुप्ता" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुषमा गुप्ता |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
 
<poem>
 
<poem>
  
 +
यादों की मिट्टी पे
 +
जब भी पलकों का
 +
पानी गिराया ...
 +
खुशबू ही आयी है
 +
सौंधी-सौंधी सी ...
 +
वक्त बीतता गया
 +
मिट्टी पड़ने लगी
 +
कैड़ी....
 +
आने लगी
 +
गहरी तरेंड़ें...
 +
मिट्टी के वजूद में।
 +
फिर ?
 +
फिर पलकों का पानी
 +
पर्याप्त नहीं रहा....
 +
सूखी मिट्टी के लिए ।
 +
गहरी हुई तरेड़ों में
 +
कहीं गुम होने लगा...
 +
पलकों का पानी ।
 +
फिर ?
 +
फिर वक्त और
 +
बीतता गया...
 +
बंजर होने लगी
 +
यादों की मिट्टी...
 +
और सूख गया
 +
पलकों का पानी ...
 +
सब बंजर हो गया
 +
आखिर ।
 +
यादें भी पलकें भी ।
 +
कुछ लोग इसे
 +
संवेदनाओं का
 +
अकाल भी कहते है
 +
ठीक से तो नहीं पता
 +
पर शायद
 +
आपातकाल की स्थिति है
 +
किसी भी इंसान के
 +
वजूद की ये ...।
  
  
 
</poem>
 
</poem>

22:29, 28 मई 2019 के समय का अवतरण


यादों की मिट्टी पे
जब भी पलकों का
पानी गिराया ...
खुशबू ही आयी है
सौंधी-सौंधी सी ...
वक्त बीतता गया
मिट्टी पड़ने लगी
कैड़ी....
आने लगी
गहरी तरेंड़ें...
मिट्टी के वजूद में।
फिर ?
फिर पलकों का पानी
पर्याप्त नहीं रहा....
सूखी मिट्टी के लिए ।
गहरी हुई तरेड़ों में
कहीं गुम होने लगा...
पलकों का पानी ।
फिर ?
फिर वक्त और
बीतता गया...
बंजर होने लगी
यादों की मिट्टी...
और सूख गया
पलकों का पानी ...
सब बंजर हो गया
आखिर ।
यादें भी पलकें भी ।
कुछ लोग इसे
संवेदनाओं का
अकाल भी कहते है
ठीक से तो नहीं पता
पर शायद
आपातकाल की स्थिति है
किसी भी इंसान के
वजूद की ये ...।