भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकेला तू तभी / वीरेन डंगवाल

Kavita Kosh से
Dr. ashok shukla (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:55, 2 फ़रवरी 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू तभी अकेला है जो बात न ये समझे

हैं लोग करोडों इसी देश में तुझ जैसे



धरती मिट्टी का ढेर नहीं है अबे गधे

दाना पानी देती है वह कल्याणी है

गुटरू-गूँ कबूतरों की, नारियल का जल

पहिये की गति, कपास के ह्रदय का पानी है



तू यही सोचना शुरू करे तो बात बने

पीडा की कठिन अर्गला को तोडें कैसे!