भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अखियुनि सां पी जे सघां ख़ामोशी! / अर्जुन हासिद

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:26, 22 अगस्त 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अर्जुन हासिद |अनुवादक= |संग्रह=मो...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अखियुनि सां पी जे सघां ख़ामोशी!
जिते जॾहिं बि ॾिसां ख़ामोशी!

हवाऊं पाणा में थियूं सुस-पुस कनि,
लंघे जॾहिं बि जितां ख़ामोशी!

तूं कंहिं बि चौंक ते बीठी हूंदींअ,
घिटियूं मां घर थो पुछां, ख़ामोशी!

घड़ियूं ॿ किअं बि लीओ पाए वञु,
अकेलो थी थे पवां, ख़ामोशी!

ॿ लफ़्ज़ मुंहिंजा था बकवास लॻनि,
चई मां छा थो चवां, खामोशी!

लॻे थो, पाण खे ॻोल्हे वठंदुसि,
जे तुंहिंजो अन्त लहां, ख़ामोशी!

सॼो जहान ई गूंगो हासिद,
मां कंहिं ते कंहिं ते खिलां, ख़ामोशी!