भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर पेड़ में रुपये फलते / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:24, 30 जून 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर पेड़ में रुपये फलते-
टप् टप् टप् टप् रोज टपकते
अगर पेड़ में रुपये फलते
सुबह पेड़ के नीचे जाते
ढ़ेर पड़े रुपये मिल जाते

थैलों में भर भर कर रुपये
हम अपने घर में ले आते
मूंछों पर दे ताव रोज हम‌
सीना तान अकड़के चलते

कभी पेड़ पर हम चढ़ जाते
जोर जोर से डाल हिलाते
पलक झपकते ढेरों रुपये
तरुवर के नीचे पुर जाते
थक जाते हम मित्रों के संग‌
रुपये एकत्रित करतॆ करते

एक बड़ा वाहन ले आते
उसको रुपयों से भरवाते
गली गली में टोकनियों से
हम रुपये भरपूर लुटाते
वृद्ध गरीबों भिखमंगों की
रोज रुपयों से झोली भरते

निर्धन कोई नहीं रह पाते
अरबों के मालिक बन जाते
होते सबके पास बगीचे
बड़े बड़े बंगले बन जाते
खाते पीते धूम मचाते
हम सब मिलकर मस्ती करते