भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अगर सच्चाई पर अख़बार आ जाएं / राज़िक़ अंसारी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>अगर सच्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

07:28, 14 जून 2019 के समय का अवतरण

अगर सच्चाई पर अख़बार आ जाएं
तो ख़तरे में कई किरदार आ जाएं

उठा दें चारा साज़ों की दुकानें
सड़क पर जो दिले बीमार आ जाएं

गुज़ारे जा चुके सारे बुरे दिन
हमारे पास फिर से यार आ जाएं

अगर इतनी मोहब्बत भाई से है
गिरा कर बीच की दीवार आ जाएं

पड़ेगी चार कांधों की ज़रूरत
मेरी जागीर के हक़ दार आ जाएं