भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अघोरी सा-जीवन / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

03:52, 14 सितम्बर 2019 के समय का अवतरण

87
घोर अमा है
अघोरी सा-जीवन
अपना मन।
88
जला दो ग्रन्थ
जो कुचलें प्रेम को
घृणा ही बोएँ ।
89
नभ की स्मित
छिटकी रात भर
नन्हे शिशु-सी।
90
हाँफ़ती आई
शत- शत उर्मियाँ
पग पखारें।
91
वासना- कीट
करता बदरंग
जीवन-रंग।
92
क्रूर का जाप
बनता अभिशाप
विष ही रोपे।
93
आग ही आग
उगलती है जीभ
पूजा के बाद।
94
शंका है सर्प
न सोए ,न सोने दे
नरक- द्वार।
95
दर्द न पूछो,
पाहन बन रहो
पूजे जाओगे।
96
प्रभु ने भेजे
अमृत-घट भरे
पीते न बने।