भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छा ही अच्छा / सुकुमार राय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:14, 11 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुकुमार राय |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस दुनिया में सब है अच्छा
असल भी अच्छा नक़ल भी अच्छा

सस्ता भी अच्छा महँगा भी अच्छा
तुम भी अच्छे मै भी अच्छा

वहां गानों का छन्द भी अच्छा
यहाँ फूलों का गन्ध भी अच्छा

बादल से भरा आकाश भी अच्छा
लहरों को जगाता वातास भी अच्छा

ग्रीष्म अच्छा वर्षा भी अच्छा
मैला भी अच्छा साफ़ भी अच्छा

पुलाव अच्छा कोरमा भी अच्छा
मछली परवल का दोरमा भी अच्छा

कच्चा भी अच्छा पका भी अच्छा
सीधा भी अच्छा टेढ़ा भी अच्छा

घण्टी भी अच्छी ढोल भी अच्छा
चोटी भी अच्छा गंजा भी अच्छा

ठेला गाडी ठेलना भी अच्छा
खस्ता पूरी बेलना भी अच्छा

गिटकीड़ी गीत सुनने में अच्छा
सेमल रूई धुनने में अच्छा

ठण्डे पानी में नहाना भी अच्छा
पर सबसे अच्छा है ....

सूखी रोटी और गीला गुड़

मूल बांग्ला से अनूदित