भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छे दिन की खूब कही है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:37, 8 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल' |अनुवाद...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अच्छे दिन की खूब कही है।
उलट-पुलट कर बात वही है।।

राजा के नंगेपन का क्या,
‘परजा’ के मुँह जमा दही है।।

निर्बल और सबल का रिश्ता,
इनका सिर, उनकी पनही है।।

‘भाग-करम’ सब अपने-अपने,
शासन का कुछ दोष नहीं है।।

बटमारों की पाँचों घी में,
आज़ादी का सुफल यही है।।

जुमलेबाजी के जंगल में,
सच्चाई तो भटक रही है।।

भूखे-नंगे राजा चुनते,
क्या इससे संतोष नहीं है?