भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अजगैवी बाबा के घर से, गंगा जल भर लाएंगे / अवधेश्वर प्रसाद सिंह

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:28, 19 दिसम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अवधेश्वर प्रसाद सिंह |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजगैवी बाबा के घर से, गंगा जल भर लायेंगे।
झटकल दुलकल काँवर लेकर, बाबा के घर जायेंगे।।

ऐसा ही माहौल रहा तो हर आँगन सुख जागेंगे।।
ले काँवर में गंगा जल हम शिव शंकर पर ढारेंगे।।

सावन महिना गंगा का जल, बाबा को अच्छा लगता।
ले काँवर में गंगा का जल हम भोला पर ढारंेगे।।

काँवरिया पथ पर सुविधाएँ, सरकारी झूठा निकला।
फिर भी हम चलते जायेंगे, तब दर्शन कर पायेंगे।।

भाई चारे का है अवसर, सब आरक्षण ध्वस्त हुआ।
सब मिलकर गाते जाते हैं, अब शिव शंकर आयेंगे।।

सब की पीड़ा एक है यारो, हम सब हैं भाई-बहिना।
हर-हर भोले नारा गूँजे, काँवर लेकर नाचेंगे।।