भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अज अविनाशी अखिल भुवनपति / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:32, 29 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग वागेश्वरी-ताल झूमरा)

अज अविनाशी अखिल भुवनपति मायापति स्वतन्त्र भगवान।
 प्रकट हु‌ए निज लीलासे ही चिदानन्द-विग्रह द्युतिमान॥
 लीला ललित दिव्य ब्रजमें कर भक्तको कर शुचि रस-दान।
 पहुँचे द्वारावती, रचे लीलाके अद्भुत अमित विधान॥
 कुञ्रुक्षेत्रकी समर-भूमिमें बने पार्थ-सारथि तज मान।
 शरणागतको वरद-हस्त हो करते अक्षय अभय-प्रदान॥