भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अतुकान्त किसी क़ैदी ने / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:55, 19 दिसम्बर 2011 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश रंजक |संग्रह=गीत विहग उतरा / रम...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चू रहे,
निबौरी के साथ के पनीले दिन !
शायर ने खोली होंगी यादें
         बाँध गया होगा लेकिन
                             चू रहे...

रह-रह कर टूटा होगा तनाव
कौंधी होगी बिजली
भीतर अतुकान्त किसी क़ैदी ने
छेड़ी होगी कजली
लिपट गए होंगे फैले-फैले
                     दिन-से-दिन

शायर ने खोली होंगी यादें
        बाँध गया होगा लेकिन
चू रहे,
निबौरी के साथ के पनीले दिन !
                            चू रहे...