भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधरन पर मुरली मधुर धरिकै होली फाग) / आर्त

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:47, 31 मार्च 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=आर्त }} {{KKCatKavita‎}} {{KKAnthologyHoli}} Category:अवधी भाषा <poem> अधरन पर …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अधरन पर मुरली मधुर धरिकै, टेरत मृदुतान मुरारी गोवर्धन धारी ।।
रवि तनया तट तरू कदम्‍ब तर, ठाढे त्रिभंगी लाल मुरली धर राकापति उजियारी ।।
मधुर तान तन राग जगावत । तजि गृह ब्रज वनितन्हि चलीं धावत ।।
निरखैं मतवारी वदन हरि कै, हम जनम तुम्‍हहिं सन हारी गोवर्धन धारी ।।1।।

कोउ गहि चरन बाँह गले मेली, हिलिमिलि सखिन्‍ह करत अटखेली
तन सुधि सकल बिसारी ।।
तन मेलति कोउ छैल छबीली । चुम्‍बति चरन चहकि चटकी‍ली ।।
गावति मोहन संग सुर भरि कै, नाचत दोउ बाँह पसारी गोवर्धनधारी ।।2।।

अर्धरात्रि गोपिन्‍ह संग मोहन, मोहक रूप धरे कुंजन वन रास रच्‍यो बनवारी ।।
धनि-धनि गोपि ग्वाल व्रजवासी । जिन संग खेल करत सुखरासी ।।
मनुहारत राधा चरन परि कै , समुचीं वृषभानु दुलारी गोवर्धनधारी ।।3।।

बडभागी गोकुल बरसाना, रास देखि मोहे सुर नाना जै जै कुंज बिहारी ।।
मुनि मन हरष नमत यदुराई । आरति हरहु प्रणत सुखदाई ।।
निज भक्ति देहु करूणाकरि कै, मेटहु भव दुर्गति भारी गोवर्धनधारी ।।4।।