भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अधर- मधु / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 25: पंक्ति 25:
 
5
 
5
 
'''अधर- मधु'''
 
'''अधर- मधु'''
छलका पल-पल
+
'''छलका पल-पल'''
भावविह्वल  
+
'''भावविह्वल ।'''
 
6
 
6
 
आशा न छोड़ो
 
आशा न छोड़ो
 
भूलो विगत दुःख
 
भूलो विगत दुःख
मैं हूँ संग में
+
मैं हूँ संग में
 
7
 
7
 
मधु चुम्बन
 
मधु चुम्बन
पंक्ति 38: पंक्ति 38:
 
नेह की आँच
 
नेह की आँच
 
पाएँगे तन मन
 
पाएँगे तन मन
मुस्काओ तुम
+
मुस्काओ तुम
 
9
 
9
 
स्वप्न में आऊँ
 
स्वप्न में आऊँ
पंक्ति 60: पंक्ति 60:
 
हमने ठाना।
 
हमने ठाना।
 
14
 
14
मौन टूटा है  
+
'''मौन टूटा है'''
सौरभ का झरना   
+
'''सौरभ का झरना'''  
मानों फूटा है।
+
'''मानों फूटा है।'''
  
<poem>
+
</poem>

17:06, 6 मई 2019 के समय का अवतरण


1
शुभ दर्शन
तृप्त हुए नयन
सिंचित मन।
2
जैसे हो तुम
काश ऐसा ही होता
सारा जीवन।
3
नेह की दृष्टि
मुस्कान भरी प्रिये !
मोहक सृष्टि।
4
विधु -सा भाल
नैन मुग्ध विशाल
चन्द्रिका खिली।
5
अधर- मधु
छलका पल-पल
भावविह्वल ।
6
आशा न छोड़ो
भूलो विगत दुःख
मैं हूँ संग में ।
7
मधु चुम्बन
देकर खिला दूँगा
बुलालो मुझे।
8
नेह की आँच
पाएँगे तन मन
मुस्काओ तुम ।
9
स्वप्न में आऊँ
पलभर न जाऊँ
तुम्हें तजके।
10
विरह मिटे
बाँध लेना बाहों में
मन -तन को
11
चाँद उदास
धरती की छाया भी
छीनती खुशी।
12
तुम हो चाँद
में सूरज तुम्हारा
छाया हरूँगा।
13
काली छायाएँ
मिटेंगी किसी दिन
हमने ठाना।
14
मौन टूटा है
सौरभ का झरना
मानों फूटा है।