भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधिगत जागल हो सजनी / गुलाल साहब

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:17, 21 अगस्त 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गुलाल साहब }} {{KKCatPad}} {{KKCatBhojpuriRachna}} <poem> अधि...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अधिगत जागल हो सजनी।
खोजत-खोजत सतगुरु पावल, ताहि चरनवाँ चितवा लागल हो सजनी।।
साँझि समय उठि दीपक बारल, करमवा मनुबाँ पागल हो सजनी।।
चललि उबटि बाट, छुटलि दकल घाट, गरजि गगनवा अनहद बाजल हो सजनी।।
गइली अनँदपुर भइली अगम सूर, जितली मैदनवाँ नेजवा गाड़ल हो सजनी।।
कहै गुलाल हम प्रभुजी पावल, फरल लिलरवा पपवा भागल हो सजनी।।