भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुभव के मोती / अवनीश सिंह चौहान

Kavita Kosh से
Abnish (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:48, 18 मार्च 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अवनीश सिंह चौहान |संग्रह= }} {{KKCatNavgeet}} <Po...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बन कर ध्वज हम
इस धरती के
अम्बर में फहराएँ
मेघा बन कर
जीवन जल दें
सागर-सा लहराएँ

टूटे-फूटे
बासन घर के
अपनी व्यथा सुनाते
सभी अधूरे सपने
मिल कर
अक्सर हमें रुलाते

पथ के कंटकवन को
आओ
मिल कर आज जराएँ

बाग़ लगाएं
फूल बनें हम
कोयल-सा कुछ गाएँ
भोर किरण का
रूप धरें हम
तम को दूर भगाएँ

चुन-चुन कर
अनुभव के मोती
जोड़ें सभी शिराएँ