Last modified on 30 जून 2016, at 07:50

अन्धेरा देता है उससे भी ज़्यादा / शक्ति चट्टोपाध्याय

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:50, 30 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शक्ति चट्टोपाध्याय |अनुवादक=उत्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

उजाला कितना दे पाता है
जो कुछ देता है .... अन्धेरा
जो कुछ देता है अन्धेरा देता है
पाप, कटे हुए सिर, नरक का धुआँ
उजाला दे सकता है यह सब?
दे सकता है क्या ...?

धूप बहुत कुछ देती है
अन्धेरा उससे भी ज़्यादा देता है
छिन्न-विच्छिन्न माँस को रख देता है ज़मीन के भीतर
इंसान की मज्जा झुलसती है
श्रद्धामय अन्धेरे के बुखार में,
धूप बहुत देती है
अन्धेरा उससे भी ज़्यादा देता है।

प्रेम थोड़ा-सा देता है
लेकिन प्रेमविहीनता देती है बहुत कुछ
विरह, अगोचर मेघ, हिंस्र-झपट्टे, जीभ और यंत्रणाएँ
अभिभूत कर देती है मज़े-मज़े में सारा दिन

धूप बहुत देती है
अन्धेरा उससे भी ज़्यादा देता है!!

मूल बँगला से अनुवाद : उत्पल बैनर्जी