भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपना घर : अपने लोग / गुलाब सिंह

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:40, 4 जनवरी 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गुलाब सिंह |संग्रह=बाँस-वन और बाँ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यही अपने लोग
अपना यही घर है।

झुकी रह कर भी
थमी है,
देखिए, दीवार तक तो
संयमी है,

इनके गिरने का नहीं
उठने का डर है।

दाँत भी थे
अब बचे केवल मसूड़े
बाप पर बेटे गए
बूढ़े ही बूढ़े

पूछना बेकार
किसकी क्या उमर है?

बुझा करके आग
चूल्हे की
नाचती है भीड़
हिलती कमर-कूल्हे-सी

एक पूरी खुशी में
अब क्या कसर है?