भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपना मन के बड़ रे मनोरथ / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:06, 2 जुलाई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मैथिली |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= बिय...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अपना मन के बड़ रे मनोरथ, धीया लए आस लगाइ जी
हमरो धिया के आस पुरबिहथि, खर्चा देब हम पठाइ जी
एकर निर्वाह हृदय बिच करिहथि, जुनि करिहथि विछोह जी
ससुर जमाय हँसिकऽ बजला, सरहोजि देलनि सुनाइ जी
पहुँ बिहुँसिकऽ तकलनि, सभ सखि नयन जुराइ जी