भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अपनी परिपाटी / शीलेन्द्र कुमार सिंह चौहान" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीलेन्द्र कुमार सिंह चौहान |संग्रह=तपती रेती प…)
 
 
पंक्ति 10: पंक्ति 10:
  
 
वैसे तो हम  
 
वैसे तो हम  
सत्य अहिंसा के अनुयायी है
+
सत्य अहिंसा के अनुयायी हैं
 
पर नागों के दाँत  
 
पर नागों के दाँत  
 
तोड़ना हमको आता है  
 
तोड़ना हमको आता है  
पंक्ति 20: पंक्ति 20:
 
दिया  न दुश्मन को  
 
दिया  न दुश्मन को  
 
तिल भर माटी  
 
तिल भर माटी  
 
 
सदाचार से  
 
सदाचार से  
 
अपना बड़ा पुराना नाता है
 
अपना बड़ा पुराना नाता है
वक्त पड़ा तो
+
 
हँस-हँस खायी  
+
वक्त पड़ा तो
 +
हँस-हँस खायी  
 
सीने पर गोली  
 
सीने पर गोली  
 
मरते दम तक  
 
मरते दम तक  
 
मुंह से निकली
 
मुंह से निकली
जय भारत की बोली  
+
जय भारत बोली  
 
+
 
दया धर्म के गीत  
 
दया धर्म के गीत  
 
यहाँ का जन जन गाता है  
 
यहाँ का जन जन गाता है  
पंक्ति 39: पंक्ति 38:
 
दुनिया का  
 
दुनिया का  
 
परहित माना है  
 
परहित माना है  
 
 
शांति दूत भारत को  
 
शांति दूत भारत को  
 
जग में जाना जाता है  
 
जग में जाना जाता है  
  
 
</poem>
 
</poem>

21:50, 16 मार्च 2012 के समय का अवतरण


अपनी परिपाटी

वैसे तो हम
सत्य अहिंसा के अनुयायी हैं
पर नागों के दाँत
तोड़ना हमको आता है

युगों युगों से
यही रही है
अपनी परिपाटी
प्राण दिये पर
दिया न दुश्मन को
तिल भर माटी
सदाचार से
अपना बड़ा पुराना नाता है

वक्त पड़ा तो
हँस-हँस खायी
सीने पर गोली
मरते दम तक
मुंह से निकली
जय भारत बोली
दया धर्म के गीत
यहाँ का जन जन गाता है

औरों के दुख को
अपना दुख
हमने जाना है
सबसे बड़ा धर्म
दुनिया का
परहित माना है
शांति दूत भारत को
जग में जाना जाता है