भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अपनी राह गए(मुक्तक) / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' }} {{KKCatKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
 
+
1
 
+
जिनके लिए मैं  मिटा उम्रभर, उन सबने दुत्कार दिया।
 
+
जिनकी खातिर प्राण लुटाए, सदा पीठ पर वार किया ॥
 +
‘हम तेरे हैं’ जो कहते थे, वे सब अपनी राह गए ।
 +
एक तुम्हीं थे दर्द पिया पर , फिर भी जीभर प्यार किया ।
 +
2
 +
जो भी अन्तिम गीत हो मेरा , सारे उजियारे नाम लिखूँ ।
 +
जो भी  मिले इन उजियारों से , उसे तुम्हारे नाम लिखूँ ॥
 +
पाप-पुण्य सभी होता  मन का , मन को किसने देखा है  ।
 +
सभी लहरें  खुद झेलूँ, तुझको  सिर्फ़  किनारे नाम लिखूँ ॥
  
 
</poem>
 
</poem>

08:17, 1 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

1
जिनके लिए मैं मिटा उम्रभर, उन सबने दुत्कार दिया।
जिनकी खातिर प्राण लुटाए, सदा पीठ पर वार किया ॥
‘हम तेरे हैं’ जो कहते थे, वे सब अपनी राह गए ।
एक तुम्हीं थे दर्द पिया पर , फिर भी जीभर प्यार किया ।
2
जो भी अन्तिम गीत हो मेरा , सारे उजियारे नाम लिखूँ ।
जो भी मिले इन उजियारों से , उसे तुम्हारे नाम लिखूँ ॥
पाप-पुण्य सभी होता मन का , मन को किसने देखा है ।
सभी लहरें खुद झेलूँ, तुझको सिर्फ़ किनारे नाम लिखूँ ॥