भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने हाथ हुए पत्थर के / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:17, 24 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= कुमार रवींद्र |संग्रह=और...हमने सन्धियाँ कीं / क…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और उम्र भर
किए इकट्ठे हमने सपने
                इधर-उधर के

बचपन में खेले-खाए
राजा बनने के सपने जोड़े
आदमक़द होने की धुन में
हुए 'रेस' के लंगड़े घोड़े

युवा हुए जब
हमें मिले दिन कुछ अलबेले
                   जलसाघर के

उन्हीं दिनों हम
एक काँच की गुड़िया लाए
उसे सँवारा
और ज़िंदगी भर उस पर ही
सोने-सा यह तन-मन वारा

उसके सँग ही
रचे अनोखे रंगमहल
                 भीतर-बाहर के

बरस-दर-बरस हमने बेचे
बड़े हाट में अपने सूरज
उसके बदले मिले हमें हैं
सिन्धु-पार के बौने अचरज

उन्हें सँजो कर
रखते-रखते अपने हाथ
                हुए पत्थर के