भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / तथागत बुद्ध 12 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:48, 5 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार रवींद्र |अनुवादक= |संग्रह=अ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ-जहाँ
गये बुद्ध
वहीं-वहीं खुले द्वार

कुटिया से महलों तक
करुणा की नदी बही
मानुष औ' मानुष के बीच की
नकली दीवार ढही

हो गई
निरर्थक सब
युद्धों की जीत-हार

प्राणों से प्राणों तक
सेतु बँधे नेह के
'बुद्धं शरणं गच्छामि'
ताप मिटे देह के

सुक्ख-दुक्ख
दोनों के
मिट गये सभी विकार

श्रेष्ठि-नृपति-वारवधू
सभी हुए शरणागत
व्याप गई घर-घर में
बुद्ध की कथा शाश्वत

आज भी
गुणीजन मिल
करते उस पर विचार