भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / यशोधरा 5 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:57, 5 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार रवींद्र |अनुवादक= |संग्रह=अ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और अब
यशोधरा रीझ रही

देह के तटों से वह
दूर हुई
सारी ही धरती है
नेह-छुई

उसमें वह
साँसों को बीज रही

कल तक जो दुख थे
वे नहीं रहे
ताप सभी
बरखा के संग बहे

और वह...
नदी होकर सीझ रही
द्वीप नहीं
अब वह आकाश है
फूल रही -
वह प्रभु की बास है

यों ही अब
दिन-दिन वह छीज रही