भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / राहुल 3 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:04, 5 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार रवींद्र |अनुवादक= |संग्रह=अ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और...
पिता ने उनको फिर था
               संबोध दिया

रोको मत रागों को
बहने दो
देखो, कहाँ-कहाँ जाते हैं
ऐसे वे साथ नहीं छोड़ेंगे
उनसे तो जन्मों के नाते हैं

जानो यह
आधा रस ही तुमने क्यों है
                हर बार पिया

सिमटी जल-धार रहे हो
अब तक
महानदी हो जाओ
एक महासागर है
साँसों का अंतहीन
उसमें ही खो जाओ

भन्ते !
आकाशदीप बनो
याकि कुटिया में जला दिया

वासनाएँ सच हैं
पर उतने ही सच हैं दुख
जो उनसे हैं उपजे
बंधन जो बाँध रहे हैं तुमको
तुमने ही तो हैं सिरजे

सोचो
क्यों तुमने यह बार-बार
       जीवन निस्सार जिया