भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अबहूँ जो दरसन न देवोगे बिहारी लाल / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:20, 21 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महेन्द्र मिश्र |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अबहूँ जो दरसन न देवोगे बिहारी लाल,
तो जाय रामा मातु पास बिनती सुनाऊँगा।
तिन्हीं की सलाह पाय जाऊँ शारदा के पास,
युक्तियुक्त एक दरखास्त लिखवाऊँ।
अवध बिहारी तोही ऊपर करूँगा नालिस,
आरत पुकार हो के सम्मन भेजवाऊँगा।
होवोगे ना हाजिर गर साबूत सभ पास लिये,
होकर लाचार वारंट करवाऊँगा।