भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब कछु स्याम! तुमहुँ हठ ठानी / स्वामी सनातनदेव

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:07, 7 जनवरी 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वामी सनातनदेव |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग रामकली, तीन ताल 20.9.1974

अब कछु स्याम! तुमहुँ हठ ठानी।
ज्यों-ज्यों भगत बढ़हिं काहूके त्यों-त्यों बढ़त गुमानी॥
हों तो दीन-हीन अति पामर भगति न कछु उर आनी।
तुमही ने यह लत्त लगाई, समझूँ लाभ न हानी॥1॥
अपने तो लागत हो तुम ही, और न कहुँ रति मानी।
टेरत हूँ दिन-रैन तुमहिं, पै सुनहु न तुम मो बानी॥2॥
तुम बिनु पलहुँ न परत चैन, पै पाऊँ कोउ न निसानी।
कैसे मिलि हो प्राननाथ! कोउ गैल न हौं कछु जानी॥3॥
तरसत है दिन-रैन नैन, अब रह्यौ न तिनमें पानी।
कहा करों कोउ पन्थ न सूझत, महामूढ़ अग्यानी॥4॥
तुमहि लगाई तुमहि निबेरो, करो न खींचा-तानी।
मेरी डोर तिहारे कर है, मैं कठपुतरि पुरानी॥5॥
मारो वा तारो मनमोहन! मोहिं न आना-कानी।
पै निज विरद विचारि करहु जामें न होय बदनामी॥6॥

शब्दार्थ