भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब किसी से डर नहीं लगता / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:57, 20 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूकंपी गड़गड़ाहट
या अंधेरे की अकेली
चीख़ से
अब कभी भी डर नहीं लगता
अब किसी से डर नहीं लगता
अब सन्नाटा काटता नहीं
सालता नहीं, छीलता नहीं
धमनियों में ज्वार जैसा
ज्वर नहीं लगता
अब कहीं भी डर नहीं लगता
बन गया है लौह प्रस्तर
वह हृदय रोता नहीं
कुछ कहीं होता नहीं
अब किसी का व्यंग
भी नश्तर नहीं लगता
इसलिये अब डर नहीं लगता
अब न कोई घाव
इतना टीसता है
न दर्द कोई पीसता है
न तनाव खींचता है
फण उठाये हर कोई
फणियर नहीं लगता
अब किसी से डर नहीं लगता।