भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब के ऐसा दौर बना है / गौतम राजरिशी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:03, 30 अगस्त 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौतम राजरिशी |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem> अब के ऐसा दौर बन...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब के ऐसा दौर बना है
हर ग़म काबिले-गौर बना है

उसके कल की पूछ मुझे, जो
आज तिरा सिरमौर बना है

फिर से चांद को रोटी कहकर
आंगन में दो कौर बना है

बंद न कर दिल के दरवाज़े
ये हम सब का ठौर बना है

इस्कूलों में आए जवानी
बचपन का ये तौर बना है

तेरी-मेरी बात छिड़ी तो
फिर किस्सा कुछ और बना है

झगड़ा है कैसा आख़िर, जब
दिल्ली-सा लाहौर बना है