भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब के बरस भेज भैया को बाबुल / शैलेन्द्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:54, 24 अगस्त 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= शैलेन्द्र |संग्रह=फ़िल्मों के लि...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अबके बरस भेज भैया को बाबुल,
सावन में लीजो बुलाय रे
लौटेंगी जब मेरे बचपन की सखियाँ,
दीजो संदेसा भिजाय रे

अंबुवा तले फिर से झूले पड़ेंगे,
रिमझिम पड़ेंगी फुहारें
लौटेंगी फिर तेरे आँगन में बाबुल,
सावन की ठंडी बहारें
छलके नयन मोरा कसके रे जियरा,
बचपन की जब याद आए रे
अबके बरस भेज भैया को बाबुल

बैरन जवानी ने छीने खिलौने,
और मेरी गुड़िया चुराई
बाबुल थी मैं तेरे नाज़ों की पाली,
फिर क्यूँ हुई मैं पराई
बीते रे जुग, कोई चिठिया ना पाती,
ना कोई नैहर से आए रे
अबके बरस भेज भैया को बाबुल …

(फ़िल्म - बन्दिनी 1963)