भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब कैसे जाऊँ लाड़ो, सामने खड़ी रे लाल / मगही

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:35, 28 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मगही |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatMagahiR...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अब कैसे जाऊँ लाड़ो[1] सामने खड़ी रे लाल।
माँगो टीका पेन्ह लाड़ो, सामने खड़ी रे लाल।
अब कैसे जाऊँ लाड़ो दिल में बसी रे लाल॥1॥
नाको बेसर पेन्ह लाड़ो, सामने खड़ी रे लाल।
अब कैसे जाऊँ लाड़ो, दिल में बसी रे लाल॥2॥
कानो बाली पेन्ह लाड़ो, सामने खड़ी रे लाल।
अब कैसे जाऊँ लाड़ो, दिल में बसी रे लाल॥3॥
हाथों कँगन पेन्ह लाड़ो, सामने खड़ी रे लाल।
अब कैसे जाऊँ लाड़ो, अँखिया लड़ी रे लाल॥4॥
गले माला पहन लाड़ो, सामने खड़ी रे लाल।
अब कैसे जाऊँ लाड़ो, अँखिया लड़ी रे लाल॥5॥
हाथों पहुँची[2] पेन्ह लाडो, सामने खड़ी रे लाल।
अब कैसे जाऊँ लाड़ो, दिल में बसी रे लाल॥6॥
जान[3] सूहा[4] पेन्ह लाड़ो, सामने खड़ी रे लाल।
अब कैसे जाऊँ लाड़ो सामने खड़ी रे लाल॥7॥

शब्दार्थ
  1. लाड़ली, दुलहन
  2. कलाई में पहनने का एक आभूषण
  3. कमर में
  4. विशेष प्रकार की छापे वाली लाल रंग की साड़ी