भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब जी रहा हूँ गर्दिश-ए-दौराँ के साथ-साथ / शोरिश काश्मीरी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:30, 29 मार्च 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शोरिश काश्मीरी |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem>...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब जी रहा हूँ गर्दिश-ए-दौराँ के साथ-साथ
ये नागवार फ़र्ज़ अदा कर रहा हूँ मैं

ऐ रब्ब-ए-ज़ुल-जलाल तिरी बरतरी की ख़ैर
अब ज़ालिमों की मद्ह-ओ-सना कर रहा हूँ मैं

‘षोरिष’ मेरी नवा से ख़फ़ा है फ़क़ीह-ए-शहर
लेकिन जो कर रहा हूँ बजा कर रहा हूँ मैं