भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब जो बिखरे तो फिजाओं में सिमट जाएंगे / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:31, 28 नवम्बर 2011 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सिया सचदेव }} {{KKCatGhazal}} <poem> अब जो बिखरे त...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब जो बिखरे तो फिजाओं में सिमट जाएंगे
ओर ज़मीं वालों के एहसास से कट जाएंगे

मुझसे आँखें न चुरा, शर्म न कर, खौफ न खा
हम तेरे वास्ते हर राह से हट जाएंगे

आईने जैसी नजाकत है हमारी भी सनम
ठेस हलकी सी लगेगी तो चटक जाएंगे

हम-सफ़र तू है मेरा, मुझको गुमाँ था कैसा
ये न सोचा था कि तनहा ही भटक जाएंगे

प्यार का वास्ता दे कर मनाएगी 'सिया'
मेरे जज़्बात से कैसे वो पलट जाएंगे