भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब दिन शाला चलने के / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:41, 29 जून 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब दिन शाला चलने के...

बीते दिन लड़ने-भिड़ने के,
अब आए दिन पढ़ने के।

छोड़ो अब तो गुड्डा-गुड़िया,
अब दिन कलम पकड़ने के।

घर में रहकर रोने-धोने,
अब दिन गए मचलने के।

कलम-किताबें बस्ता लेकर,
अब दिन शाला चलने के।