भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब भी युग के परिवर्तन में थोड़ी-सी देर है / बलबीर सिंह 'रंग'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:21, 23 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बलबीर सिंह 'रंग' |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब भी युग के परिवर्तन में थोड़ी-सी देर है।

युग कभी बदलता नहीं, बदलती युग की परिभाषा,
संघर्षों में सदा पनपती नव-युग की आशा,
जन-मन के युग आवाहन में थोड़ी-सी देर है।

जीवन भर यों गम्भीर नहीं रह पाएगा सागर,
बन्दी प्रवाह के साथ नहीं बह पाएगा सागर,
लहरों के ताण्डव नर्तन में थोड़ी-सी देर है।

अधखिले मनोहर फूल सूख कर धूल नहीं होंगे,
आँधी, पानी, मलयानिल के प्रतिकूल नहीं होंगे,
सम्भावित, प्रलय प्रभंजन में थोड़ी-सी देर है।

शोषण का जीवन के पोषण से मेल नहीं होगा,
वैभव के हित उत्थान पतन का खेल नहीं होगा,
विप्लव के खुले निमंत्रण में थोड़ी-सी देर है।

तम की विभीषिका देख नहीं घबरायेगी सविता,
कल्पना लोक की कला नहीं कहलायेगी कविता,
कवि के सर्वस्व समर्पण में थोड़ी-सी देर है।