भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब लोग नफरतों का व्यापार कर रहे हैं / रंजना वर्मा

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ४ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:14, 11 मार्च 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGeet}} <poem> अब लोग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब लोग नफरतों का व्यापार कर रहे हैं।
सच्चे परोपकारी मानव कहाँ बचे हैं॥

मत बात करो उनकी पूजें जो दुश्मनों को
विश्वास नहीं उनका दिल में कलुष भरे हैं॥

जो देशभक्त सैनिक रक्षा करें वतन की
कुछ लोग हैं कि जिनकी नज़रों में वे गड़े हैं॥

सागर में डूब जाते हैं पोत ज्वार पा कर
लहरों की श्रृंखलाओं से लोग सब डरे हैं॥

ताकत महान होती डरते हैं सब इसी से
तूफ़ान जब भी आया सारे शज़र झुके हैं॥

घनश्याम द्वार तेरे हैं भक्त तेरे आये
पायें दरश तुम्हारा जिद पर इसी अड़े हैं॥

आकर ज़रा सँभालो भक्तों को श्यामसुंदर
सब त्याग मोह माया दर पर तेरे पड़े हैं॥